#Mee Too Campaign Kya Hai, Me Too Movement Started By India in Hindi, Tanushree Dutta, Nana Patekar, Alok Nath and Vinta Nanda Case in Hindi

0
1137
me too kya hai

Bindaas Dekh


Mee Too Movement in India:

Me Too कैंपेन आज कल खूब चर्चा में चल रहा है आपने सुना और देखा होगा की इन दिनों #MeToo Hashtag के बारे में न्यूज़ चैनल पर काफी कुछ दिखाया जा रहा है। यह एक तरह की कैंपेन है। जिसमे महिलाएं अपने साथ वर्कप्लेस के समय हुए व्यवहार को शेयर कर रही है कि किस तरह के माहौल में उन्हें काम करना पड़ता है कैसी कैसी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इस कैंपेन के सहारे महिलाएँ अपने साथ हुए बुरे व्यवहार के बारे में सोशल मीडिया पर शेयर कर रही है। इस कैंपेन में महिलाएं #meToo hashtag लगा कर कुछ स्क्रीन शॉट भी शेयर कर रही है। सबसे पहले तनुश्री दत्ता ने भारत में इस कैंपेन की शुरुआत की इसमें तनुश्री दत्ता ने नाना पाटेकर पर कई आरोप भी लगाए है और ये मामला अभी तक गरमाया हुआ भी है। Me Too Movement/Campaign भारत में 2017 में शुरू हुआ।

किसने और कैसे इस मूवमेंट की शुरुआत की?

वैसे तो ये कैंपेन अभी का नहीं है इसकी शुरुआत सबसे पहले हॉलीवुड से हुई थी वो भी 2006 में अमेरिकी सिविल राइट्स एक्टिविस्ट तराना बर्क द्वारा इस कैंपेन की शुरुआत हुई। अब तो ये कैंपेन भारत में काफी चर्चा में चल रहा है। और बॉलीवुड की कुछ जानी मानी हस्तियों का नाम सामने आ रहे है। इस लिस्ट में चेतन भगत, विकास बेहाल, आलोक नाथ, कैलाश खेर, रजत कपूर, फेमस सिंगर अभिजीत भटाचार्य, जुल्फी सईद, तमिल राइटर वेरमुथु और एमजे अकबर जैसे बड़े नाम शामिल है।

2013 में सरकार ने के कानून बनाया था कि योन उत्पीड़न से महिलाओं का संरक्षण (रोकथाम, निषेद्य और निवारण) अधिनियम 2013 आया और इस अधिनियम के अनुसार अगर किसी महिला का लैंगिंग उत्पीड़न हुआ है तो वह आईपीसी की धारा 354 (ए) के तहत अपनी शिकायत दर्ज करवा सकती है। और इस जुर्म की सजा कम से कम 5 साल की है।

Me Too हैशटैग के रूप में कब सामने आया

हैशटैग Me Too की शुरुआत 15 अक्टूबर 2017 को हॉलीवुड के फेमस अभिनेत्री एलीसा मिलाने ने अपने ट्वीट के जरिये की थी। इन्होने हैशटैग Me Too के जरिये अपने साथ हुए अत्याचारों के बारे में दुनिया वालो का सामने रखा इन्होने अपने ट्वीट में, हार्वे वीनस्टीन द्वारा किये गए बुरे व्यवहार का बारे में लोगो के साथ शेयर किये और इन्होने ने ही दुनिया वालो के सामने ये बात रखी कि ये अपने साथ हुए आत्याचारों को Me Too हैशटैग लगा कर दुनिया के सामने रखे।

इस ट्वीट का असर कैसे हुआ

Me Too हैशटैग को 15 अक्टूबर 2017 को काफी प्रोत्साहन मिला और काफी लोगो ने इसका समर्थन भी किया 24 के अंदर ही करोड़ों लोगों ने इस हैशटैग का इस्तेमाल करना चालू कर दिया। इस ट्वीट पर करोड़ों लोगों ने अपने विचार शेयर किये और बहुत से लोगों ने अपने अनुभव और वर्कप्लेस के समय हुए व्यवहार को सोशल मीडिया पर साँझा किया एलीसा मिलाने का यह कदम महिलाओं के लिए एक शक्ति बनकर सामने आया और आज के समय में ये आंदोलन काफी तेजी से आगे बढ़ रहा है। और काफी लोगों के सामने उभर कर भी आ रहा है।

आज कल के टाइम में हर देश इस तरह की शोषण जैसी परेशानियों से जूझ रहा है। और ये तब होता है जब हमारा शिक्षित होता है और तब इस तरह की वारदातें हम लोगों के सामने आती है और ये समस्या बढ़ती ही जा रही है। क्योंकि इस समस्या का खुल कर विरोध नहीं होता जिसके कारण इस तरह की शोषण समस्याओं को और अधिक बढ़ावा मिलता है।

भारत में भी Me Too कैंपेन का असर

एलीसा मिलाने द्वारा हुई इस कैंपेन की शुरुआत के बाद अब भारत में भी इस कैंपेन का काफी असर हो रहा है। हमारे देश के बहुत से लोगों ने अपने अनुभव को Me Too हैशटैग के जरिये शेयर भी किया है। वो बिना किसी के डरे, इसमें कुछ अभिनेत्रियाँ भी शामिल है जिन्होंने ने इस कैंपेन के माध्यम से अपने ऊपर हुए व्यवहार को लोगों के सामने रखा इस Me Too हैशटैग के जरिये तनुश्री दत्ता ने बहुत ही फेमस अभिनेता व सोशल वर्कर नाना पाटेकर के ऊपर आरोप लगाए।

तनुश्री दत्ता और नाना पाटेकर का केस (Tanushree Dutta and Nana Patekar Case):

बॉलीवुड की बहुत ही फेमस अभिनेत्री तनुश्री दत्ता ने नाना पाटेकर पर ये आरोप लगाया है कि 2008 में एक फिल्म कि शूटिंग के दूर नाना पाटेकर ने गलत व्यवहार किया और गलत तरह से छूने की कोशिश भी की जिस वक्त ये घटना हुई तब एक गाने की कोरिओग्राफी की जा रही थी जिसमे नाना पाटेकर खुद ही तनुश्री दत्ता को डांस करना सीखा रहे है तनुश्री दत्ता का यहां तक कहना है कि उन्होंने ने उनके साथ कई आपत्तिजनक सीन करने की जोर ज़बरदस्ती भी की।

तनुश्री दत्ता द्वारा शिकायत दर्ज की गई

नाना पाटेकर द्वारा किये गए दुर्व्यवहार के खिलाफ तनुश्री दत्ता ने महाराष्ट्र महिला आयोग में शिकायत दर्ज करवाई और इस शिकायत के आधार पर महिला आयोग ने 10 साल पहले की घटना के जाँच के आदेश दिए है तनुश्री की एफ़आईआर में और भी बड़े नाम शामिल है जैसे कि सामी सिद्द्की, गणेश आचार्य और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के कुछ बड़े नाम इसमें शामिल है।

तनुश्री द्वारा लगाई गई धारायें:

महाराष्ट्र महिला आयोग के तहत दर्ज इस मामले में तनुश्री दत्ता के वकील ने काफी कुछ शेयर किया है। जिसमे वकील ने कहा है कि वे इस मामले को योन उत्पीड़न अधिनियम धारा 9 के तहत जिला अधिकारी के सामने लेकर जाएँगे।

तनुश्री ने यह भी बताया है कि वे इस मामले को काफी आगे तक लेकर जाएँगी जिसमे बहुत सी धारायें शामिल है। जैसे कि आईपीसी धारा 354 , 354 (ए) धारा 334 और 509 जैसे धारायें शामिल है तनुश्री ने अपनी शिकायत में ये साफ़ साफ़ लिखा है कि उन्होंने शूटिंग से पहले ही बता दिया था कि वो कोई भी आपत्तिजनक सीन और आपत्तिजनक डांस नहीं करेगी लेकिन शूटिंग के वक्त नाना पाटेकर का जो व्यवहार था वो काफी ख़राब था और जब तनुश्री ने इस घटना का विरोध किया तो उन पर महाराष्ट्र नवनिर्माण के कार्यकर्ताओं द्वारा उस पर हमला किया गया इसके बाद गोरेगाव पुलिस स्टेशन में जब अपनी शिकायत दर्ज करवानी चाही तो किसी भी अधिकारी ने तनुश्री की शिकायत दर्ज नहीं की ऐसे और भी शिकायतें की थी इन्होने लेकिन किसी कारण से वे आगे नहीं बढ़ पायी।

बात न बन पाने के कारण इस घटना का पूरा असर इनके जीवन पर बहुत ही गहरा पड़ा और वे ट्रोमा में चली गई इस घटना से तनुश्री को करोड़ों का नुक्सान भी हुआ।

नाना पाटेकर (Nana Patekar) की प्रतिक्रिया :

प्रेस कॉन्फ्रेंस के ज़रिये नाना पाटेकर ने तनुश्री द्वारा लगाए गए सारे आरोपों को बेबुन्यादि बताया है। उन्होंने कहा है कि ऐसा कुछ भी नहीं हुआ और वे अपने 10 पहले वाले बयान पर अभी तक क़ायम है कि उन्होंने ऐसा कोई काम नहीं किया ये सब बोलने के बाद वे रिपोर्टरो के सवालों का जवाब दिए बिना ही वह से चले गए।

गणेश आचार्य ने भी अभी तक इस घटना की पुष्टि नहीं की है। और उनका ये भी कहना है ऐसे कोई घटना नहीं हुई थी।

इस 10 साल पहले कि घटना के मामले में कई लोगो तो तनुश्री के साथ है तो कई नाना पाटेकर के साथ है और ये आरोप किस हद तक सही है इसका अभी कोई अनुमान नहीं है।

आलोक नाथ और विंटा नंदा का केस (Alok Nath and Vinta Nanda Case) :

इनका केस भी तनुश्री और नाना पाटेकर जैसा ही है विंटा नंदा ने भी #MeToo हैश टैग का सहारा लेते हुई उनके साथ हुई घटना का सब लोगो के सामने रखा इन्होने अपनी बात में आलोक नाथ का नाम तो नहीं लिया लेकिन संस्कारी जैसे शब्दों के इस्तेमाल करके इशारा किया है। ये घटना तो 20 साल पुरानी है 20 पहले टीवी पर प्रसारित होने वाला तारा सीरियल की डायरेक्टर ने आलोक नाथ पर योन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। विंटा नंदा ने बताया की सीरियल के दौरान वे एक डिनर पार्टी में मिले थे। जिसमे आलोक नाथ अपनी पत्नी को साथ में लेकर नहीं आये थे। तब आलोक नाथ विंटा नंदा की ड्रिंक में कुछ मिला दिया था कुछ देर बाद उन्हें कुछ बहुत ही अजीब सा महसूस होने लगा। उस दिन पार्टी भी काफी देर तक चली थी फिर पार्टी ख़तम होने के बाद वे अकेली घर पर जा रही थी। तभी रस्ते में आलोक नाथ ने अपनी कार में लिफ्ट दी वे कार में बैठ कर चली गई विंटा नंदा बहुत नशे में थी लेकिन सब कुछ समझ पर रही थी उनके साथ जोरजबरदस्ती हो रही है। ड्रिंक भी पीला रहे थे उनके मुँह में कपड़ा भी फसाया जा रहा था ये सब होने के बाद विंटा नंदा को घर छोड़ दिया गया फिर अगली सुबह को विंटा को महसूस हुआ की उनके साथ कुछ गलत हुआ है। उन्हें ये लगा की उनके साथ योन शोषण हुआ है फिर इन्होने ये भी बताया कि तारा सीरियल कि अभिनेत्री के साथ भी यही कुछ हुआ है। जिसका विरोध भी किया गया था लेकिन ये मामला आगे नहीं बढ़ पाया।

तारा सीरियल कि अभिनेत्री नवनीत निशान ने इस मामले में विंटा नंदा का पूरा समर्थन किया है। विंटा नंदा ने बताया कि इस घटना के कारण वो अपना मानसिक संतुलन तक खो चुकी थी वे इतना डर गई कि इस घटना का विरोध करने कि हिम्मत नहीं जुटा पर रही थी लेकिन 20 बाद विंटा #MeToo हैश टैग के ज़रिये थोड़ी हिम्मत दिखाई और अपने साथ हुए व्यवहार को दुनिया वालो के सामने रखा।

तो इस तरह #MeToo हैश टैग ने पूरी दुनिया चौका दिया कुछ लोग तो इसका खूब समर्थन कर रहे है। और कुछ लोग तो इसके खिलाफ नजर आ रहे है। कुछ लोगों का तो यहां तक कहना कि ये सिर्फ एक पब्लिसिटी स्टंट है खुद के फेमस करने के लिये #MeToo हैश टैग का गलत इस्तेमाल किया जा रहा है इस 2 तरह कि बड़ी घटनाओं के कारण ये me too आंदोलन काफी पॉपुलर हो रहा है।

आपका इस के बारे में क्या कहना है आप हमे कमेंट के माध्यम से अपने विचार शेयर कर सकते है।

आपकी राय

Bindaas Dekh की टीम की तरफ से एक सवाल?

क्या समाज को इस #MeToo मूवमेंट पर ध्यान देना चाहिए?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here